Dil Ki Sun

मेरे साथ बिताये लम्हे के हर पल को संजोग के रखना ऐ मेरे दोस्त क्योकि हम याद तो तुम्हे बहुत आयेंगे पर लौट के नहीं । Love U NESARK

Monday, 4 December 2017

Bihari

हमने दुनिया को दिखलाया हर क्षेत्र संग्राम है,
हमने ही सिखलाया सबको पैर छूना प्रणाम है,
आज तो दुनिया की हर मजबूरी, मजबूरी से हारी हैं,
गर्व है हमको उस मिट्टी पर, जिसे कहते लोग बिहारी हैं।

बदल रही सारी व्यथाएँ, व्यवहार नहीं हम बदले हैं,
नई पीढी बदल रही है, पर संस्कार नहीं हम बदले हैं।
भूल गए सब लगता है गुरु गोविंद का जन्म स्थान,
लगता है सब भूल गए हैं वीर कुंवर का बलिदान।

बिहारी को गाली कहने वाले अपना ईमान भूल जाते हैं,
इतिहास के पन्नों पर चन्द्रगुप्त मौर्य का सम्मान भूल जाते हैं,
भूल जाते हैं सब अपनी खुद की मान मर्यादा,
वो तो नालंदा और विक्रमशिला का ज्ञान भूल जाते हैं।

गौतम बुद्ध के जन्म स्थान बिहार भूल जाते हैं,
दुनिया में बौद्ध धर्म का प्रचार भूल जाते हैं,
बिहार की धरती को सब हर बार भूल जाते हैं,
आर्यभट्ट के "शून्य" का उपहार भूल जाते हैं।

बिहारी को गाली कहने वाले हमारे भाईचारे का प्यार भूल जाते हैं,
लगता है हमारे छठ पर्व का त्योहार भूल जाते हैं,
लगता है सब भूल जाते हैं हमारे लिट्टी-चोखा का स्वाद,
भूल जाते हैं देश के पहले राष्ट्रपति भी बिहारी थे राजेंद्र प्रसाद।

गर्व है हमें उस धरा पर,
जो जहरीले मौसम को नम बना देते हैं,
गर्व है खुद का बिहारी होने पर,
जो मैं को भी हम बना देते हैं।


Sunday, 26 November 2017

Laut Aao Na (लौट आओ ना )

सुनो ना, लौट आओ ना,
फिर से वही ढलता सूरज,
वही शाम दोस्तों के साथ,
करनी है मुझको तुमसे ढेर सारी बात,
लौट आओ ना।

वो क्लास बंक कर फिर से घूमना है,
तुम्हारे साइकिल पर तुम्हारे साथ,
फिर से इंतजार करना है तुम्हारे गली में,
वो माई मंदिर के पास,
लौट आओ ना।

रात भर जगना है तुम्हारे ख्यालों में,
मोबाइल पर करनी है बाकी सारी बात,
फिर से तुम रूठना बिना बातों के,
मनायेंगे हम सारी रात,
लौट आओ ना।

फिर से आऊँगा दिन के धूप में,
पसीने देख डांटना,और हल्की मुस्कान से दुपट्टा बढा देना,
फिर से रखना है तुम्हारे गोद में सर,
अपने जुल्फों से छुपा देना,
सुनो ना , लौट आओ ना।
तुम लौट आओ ना।।



Suno Na, Laut Aao Na,
Phir Se Wahi Dhalti Suraj
Wahi Shaam Doston ke Sath
Karni Hai Mujhko Tumse Dher Sari Baat
Laut Aao Na....

Wo Class Bunk Kar Phir Se Ghumna Hai,
Tumhare Cycle Per Tumhare Sath,
Phir Se Intzaar kerna Hai Tumhare Gali Me,
Wo Mai Mandir Ke Pas,
Laut Aao Na....

Raat Bhar Jagna Hai Tumhare Khyalon Me,
Mobile Pe Kerni Hai Baki Baat,
Phir Se Ruthna Tum Bin Baaton Ke,
Manayenge Tumhe Hum Saari Raat,
Laut Aao Na....

Phir Se Aaunga Wo Din Ke Dhoopon Me,
Pasine Dekh Dantna Aur Halki Muskan Se Apna Dupatta Badha Dena,
Phir Se Rekhna Hai Tumhare God Me Sr,
Apne Julf Se Chhupa Dena,
Suno Na Laut Aao Na...
Laut Aao Na...


Sunday, 30 October 2016

Special Dedication to Some 1 in Her B-day

Tujhe sapno se churakar laya hun "..." ,
Kvi dur mat jana pariyon ki trh,
Tujhe chand se todkar laya hun "..." ,
Kvi dur mat jana jugnoo ki trh,

Tujhe palko me chupakar laya hun "..." ,
Kvi dur mat jana gairo ki trh,
Mere liye kudrat ka bheja chirag h tu,
Kvi choor mt jana andheron ki trh,

Mai har janm chahunga tu, bs tu mile,
Kvi chor mat jana yaadon ki trh...



                         *****
तुझे सपनों से चुराकर लाया हूँ  "..." ,
कभी दूर मत जाना परियों की तरह,
तुझे चाँद से तोड़कर लाया हूँ"..." ,
कभी दूर मत जाना जुगनू की तरह,

तुझे पलकों में छुपाकर लाया हूँ "..." ,
कभी दूर मत जाना गैरों की तरह,
मेरे लिए कुदरत का भेजा चिराग है तू,
कभी छोड़ मत जाना अंधेरों की तरह,

मैं हर जन्म चाहूंगा तू बस तू मिले,
कभी छोड़ मत जाना यादों की तरह ।

(18/10/2015 12:05am)

Thursday, 6 October 2016

Chehre se Pyaar

Ek baar tumhara chehra,
               Ek baar tumhari aankhe.
Har baar tumhen socha hun,
               Jab se tumko dekha hun.
Har baar tumhen samjha hun,
               Jab se tumko jana hun.
Ek baar hame bhi socho,
               Ek baar hame tum samjho.
Ek baar samajh lo yaara,
               Ek baar hame tum jaano.
Mai bhula na sakunga tumko,
               Tu bhula na sakogi mujhko.
Har baar tumhari yaadein,
               Har baar tumhari baatein.
Kisko ja ke sunane,
               Ye pyaar ki puri salam hein.
Kuch tum bhi samajh lo yara,
               Sabko suna raha hun.
Mujhko bacha lo yaaro,
               Khud ko luta chuka hun.
Kasam khuda ki sun lo,
               Sab kuch bhula chuka hun.
     Han sab kuch bhula chuka hun....

18/10/2015(12:00 am)

Aaj Phir Uski Yaad Aayi

Ek badal ka kafila aaj yahan s gujra h,
Rimjhim barish ki kuch bunde aaj yahan p bikhri h,
Mai baitha hu uske intzaar m q aaj hi yaadein aayi h,
Baarish v aa k chali gyi, unhe yaad meri na aayi h,

Nadiya ki dhara to chal-chal k ab thak chuki h,
Tut gye hn bandhan sare, phir q sanse chal rhi h,
Jab usko aana hi nhi to yaad q uski aati h,
Koi to us s puch lo yaaro q mujhko itna stati h...

06/10/2016(3:20am)

Most Popular

Comment Me

Name

Email *

Message *